• Name
  • Email
शनिवार, 6 मार्च 2021
 
 

पाक-श्रीलंका संबंध: पाकिस्तान को श्रीलंका इतनी तवज्जो क्यों देता है?

रविवार, 21 फ़रवरी, 2021  आई बी टी एन खबर ब्यूरो
 
 
पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान ख़ान 23 फ़रवरी 2021 को श्रीलंका के दौरे पर जा रहे हैं। पाकिस्तान के विदेश मंत्रालय ने कहा है कि पीएम इमरान ख़ान का दौरा श्रीलंका के प्रधानमंत्री महिंदा राजपक्षे के आमंत्रण पर होने जा रहा है।

इस दौरे में इमरान ख़ान श्रीलंका के राष्ट्रपति गोटाभाया राजपक्षे और श्रीलंका के प्रधानमंत्री महिंदा राजपक्षे के साथ द्विपक्षीय बैठक करेंगे। इसके अलावा भी कई उच्चस्तरीय बैठक होनी है। पाकिस्तानी पीएम बिज़नेस और निवेश फोरम की बैठक में भी शामिल होंगे।

साथ ही क्रिकेट को लेकर भी कुछ समझौते हो सकते हैं। दोनों मुल्कों के बीच कई एमओयू पर भी हस्ताक्षर होंगे। प्रधानमंत्री के तौर पर इमरान ख़ान पहली बार श्रीलंका जा रहे हैं। साल 2021 का यह उनका पहला विदेशी दौरा है।

इमरान ख़ान के साथ एक उच्चस्तरीय प्रतिनिधिमंडल भी होगा। इस दौरे में पाकिस्तान के विदेश मंत्री शाह महमूद क़ुरैशी, इमरान ख़ान के सलाहकार अब्दुल रज़ाक दाऊद और विदेश सचिव सुहैल महमूद के अलावा कई सीनियर अधिकारी रहेंगे।

श्रीलंका के प्रधानमंत्री महिंदा राजपक्षे ने शनिवार, 20 फरवरी 2021 को ट्वीट कर कहा है कि इमरान ख़ान का श्रीलंका में स्वागत है। उन्होंने अपने ट्वीट में लिखा है, ''श्रीलंका अगले हफ़्ते इमरान ख़ान के स्वागत के लिए तैयार है। इस दौरे से दोनों देशों के संबंध और मज़बूत होंगे।''

पाकिस्तान को श्रीलंका इतनी तवज्जो क्यों देता है?

पाकिस्तान और श्रीलंका 1950 के दशक में अमेरिका के नेतृत्व वाले कम्युनिस्ट विरोधी खेमे में थे। जब श्रीलंका ने प्रधानमंत्री श्रीमाओ भंडारनायके के काल में सोवियत संघ और चीन के पक्ष में राजनीतिक रंग बदला तब भी दोनों देश क़रीब रहे।

यहाँ तक कि श्रीमाओ भंडारनायके ने 1971 में बांग्लादेश मुक्ति संग्राम के दौरान पाकिस्तानी एयरक्राफ़्ट को कोलंबो में 174 बार ईंधन भरने की अनुमति दी थी जबकि भारत ने पाकिस्तानी विमानों को अपने हवाई क्षेत्र में उड़ान भरने पर पाबंदी लगा रखी थी। श्रीलंका ने भारत की आपत्ति को भी अनसुना कर दिया था।

इसके बाद 1990 के दशक में जब पश्चिम के देश और भारत ने श्रीलंका को आतंकवादी संगठन एलटीटीई के तमिल हिन्दू विद्रोहियों से लड़ाई में हथियार की आपूर्ति रोकी तो पाकिस्तान सामने आया और उसने श्रीलंका को हथियार भेजे। तमिल हिन्दू विद्रोहियों के ख़िलाफ़ युद्ध में पाकिस्तान की सरकार ने श्रीलंका की खुलकर मदद की थी।

श्रीलंकाई अख़बार डेली स्टार के अनुसार पाकिस्तानी पायलटों ने श्रीलंका की वायुसेना को ट्रेनिंग भी दी थी। तमिलों के ख़िलाफ़ युद्ध अपराध को लेकर भी पाकिस्तान ने हमेशा श्रीलंका की मदद की। 2000 से 2009 के बीच पाकिस्तान और श्रीलंका काफ़ी क़रीब रहे।

तब श्रीलंका में तमिल विद्रोहियों और श्रीलंका की सेना के बीच युद्ध चल रहा था। 2000 में जाफना में जब श्रीलंका के सैनिक फँसे थे तो पाकिस्तान ने उन्हें एयरलिफ़्ट किया था। 2006 में एलटीटीई ने कोलंबो में पाकिस्तानी उच्चायुक्त बशीर वली मोहम्मद पर हमला भी किया था। कहा जाता है कि बशीर वली मोहम्मद ही श्रीलंका में एलटीटीई के ख़िलाफ़ पाकिस्तान को आगे करने में लगे थे।
 
 
 
 
 
 
 
 
 

खास खबरें

 
नाइजीरिया में एक स्थानीय अधिकारी का कहना है कि पिछले हफ़्ते उत्तर-पश्चिमी नाइजीरिया में स्थित एक स्कूल की जिन क़रीब 300 लड़कियों को अग़वा किया गया था, उन्हें रिहा कर दिया गया ...
भारत के ऊर्जा प्रतिष्ठानों पर चीनी हैकरों के कथित हमले को लेकर महाराष्ट्र के गृह मंत्री अनिल देशमुख ने कहा है कि साइबर हमले केवल मुंबई तक सीमित नहीं हैं बल्कि इसका दायरा देश भर में फैला ...
 

खेल

 
कोरोना वायरस संक्रमण के सात मामले सामने आने के बाद पाकिस्तान प्रीमियर लीग ट्वेन्टी-ट्वेन्टी क्रिकेट चैंपियनशिप को रद्द कर दिया गया है। पाकिस्तान प्रीमियर लीग ट्वेन्टी-ट्वेन्टी चैंपियनशिप को रद्द करने के ...
 

देश

 
भारत में दिल्ली की सीमाओं पर नवंबर 2020 से डटे हुए किसानों ने कड़कड़ाती ठण्ड झेलने के बाद अब गर्मियों की तैयारियाँ शुरू कर दी हैं। ये किसान केंद्र की मोदी सरकार द्वारा लाये गये तीन नये कृषि ...
 
भारत में रविवार, 28 फ़रवरी 2021 को दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने उत्तर प्रदेश के मेरठ में किसान महापंचायत को संबोधित किया। उन्होंने केंद्र की बीजेपी सरकार पर किसानों की पीठ में छुरा घोंपने का ...