• Name
  • Email
शनिवार, 6 मार्च 2021
 
 

भारत-चीन संबंध: लद्दाख में चीन के साथ समझौते पर विशेषज्ञ सवाल क्यों उठा रहे हैं?

रविवार, 21 फ़रवरी, 2021  आई बी टी एन खबर ब्यूरो
 
 
भारत के पूर्व राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार बोर्ड (एनएसएबी) के अध्यक्ष और पूर्व विदेश सचिव श्याम सरन ने कहा है कि वास्तविक नियंत्रण रेखा पर पूरी तरह से सैनिकों के पीछे हटने के लिए एक पैकेज डील के बजाय सैनिकों को चरणबद्ध तरीक़े से पीछे करने पर सहमति का फ़ैसला भविष्य में चिंता की वजह बन सकता है।

श्याम सरन का कहना है कि उत्तरी पैंगोंग त्सो के फिंगर एरिया में बफर ज़ोन या नो मेंस लैंड बनाना, चाहे वो अस्थायी हो, इसका मतलब होगा कि भारतीय सैनिक अप्रैल 2020 के पहले की यथास्थिति में नहीं लौट सकेंगे।

उन्होंने कहा कि भविष्य इस बात पर निर्भर करेगा कि बीते सप्ताह शुरू हुए डिसएंगेजमेंट की बाक़ी प्रक्रिया कितनी सुचारू रूप से चल पाती है।

श्याम सरन ने द हिंदू अख़बार को दिए एक इंटरव्यू में कहा, ''पहले हमें ऐसा आभास मिला कि भारतीय साइड इस इंगेजमेंट को सेक्टर दर सेक्टर नहीं बल्कि पूरे एलएसी पर कर रही है, जिसमें हॉट स्प्रिंग एरिया और देपसांग भी शामिल होगा।''

उन्होंने कहा, ''मुझे नहीं लगता कि ये यथास्थिति में वापस आना होगा, जिसकी हम लगातार मांग कर रहे थे। ऐसा लगता है कि हम सीमा पर शांति बहाल करने पर ज़्यादा ध्यान दे रहे हैं, बजाय ये कहने के कि हमें अप्रैल 2020 के आस-पास की स्थिति में वापस लौटना चाहिए।''

शनिवार, 20 फरवरी 2021 को भारतीय और चीनी कोर कमांडरों ने बैठक कर हॉट स्प्रिंग्स और गोगरा बिंदु जैसे क्षेत्रों में डिसएंगेजमेंट के अगले चरण पर चर्चा की, जहाँ चीनी सैनिकों ने साल 2020 में बहुत बड़े स्तर पर इंफ्रास्ट्रक्चर का निर्माण किया है, हालांकि जुलाई 2020 में एक आंशिक डिसएंगेजमेंट (सैनिकों का पीछे हटना) हुआ था।

लद्दाख में भारत-चीन सीमा पर तनाव घटाने को लेकर हुए चीन के साथ समझौते की कई विशेषज्ञ आलोचना कर रहे हैं। जाने-माने सामरिक विशेषज्ञ ब्रह्मा चेलानी ने भी ट्वीट कर कहा है कि चीन को पीछे हटना था और साल 2020 के अप्रैल महीने से पहले की यथास्थिति लाने की ज़िम्मेदारी उसी की थी लेकिन भारत अपने सैनिकों को पीछे क्यों कर रहा है?

भारत के पूर्व राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार और चीन में भारत के राजदूत रहे शिवशंकर मेनन ने भी इस समझौते को भारत के हक़ में नहीं बताया है। शिवशंकर मेनन ने जाने-माने पत्रकार करन थापर को दिए इंटरव्यू में कहा है कि चीन को पीछे हटना था लेकिन भारत उन इलाक़ों से पीछे हट रहा है, जहाँ भारतीय सैनिक पहले से गश्त लगाते रहे हैं। मेनन ने कहा है कि चीन दो क़दम आगे बढ़ता है और एक क़दम पीछे हटता है और यही उसकी रणनीति रही है।

साल 2013 में भारत के पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह के लिए एलएसी पर इन्फ्रास्ट्रक्चर की ज़रूरत से जुड़े सुझावों की एक रिपोर्ट तैयार करने वाले श्याम सरन के मुताबिक़, डिसएंगेजमेंट के पहले चरण में भारतीय सैनिकों का कैलाश रेंज हाइट्स, जिसमें रेचिन ला और रेजांग ला शामिल हैं, उसे ख़ाली करने का फ़ैसला तब मान्य होता जब सभी अन्य क्षेत्रों को ख़ाली करने का 'समग्र समझौता' किया जाता, जिसका चीन भी पालन करता।

हालांकि, उन्होंने कहा कि 2017 में डोकलाम विवाद के बाद भारतीय सैनिकों ने चीनी सैनिकों को भूटान के क्षेत्र में एक सड़क बनाने से रोक दिया था, लेकिन चीनी सैनिक बाद में उसी क्षेत्र के अन्य इलाक़ों में सड़कों और इन्फ्रास्ट्रक्चर का निर्माण करने लगे।

वो कहते हैं, अगर कैलाश रेंज खाली करना एक बड़े समझौते का हिस्सा है, जहां हम यथास्थिति पर लौट जाएंगे और इस प्रक्रिया की आख़िर में पूरे एलएसी पर डिसएंगेजमेंट करवा पाते हैं तो हाँ, ये ठीक रहेगा। लेकिन अगर हम इन ऊंचाई वाली जगहों को ख़ाली कर देते हैं और बाद में हमें पता चलता है कि चीनी डिसएंगेजमेंट की हमारी उम्मीद उस तरह से पूरी नहीं हुई जो ज़मीन पर हुआ है, तो हाँ, हम कहेंगे कि ये हमारी तरफ़ से कोई होशियारी भरा क़दम नहीं था।

जब उनसे पूछा गया कि उन्हें क्या लगता है कि चीन डिसएंगेजमेंट के लिए राज़ी क्यों हुआ होगा, जबकि उसने क़रीब एक साल से एलएसी के पास के इलाक़े कब्ज़े में लिए हुए हैं, इस पर सरन ने कहा कि हो सकता है चीन ने ग़लत अनुमान लगा लिया हो कि उसके आक्रामक रवैये की कम क़ीमत या कम जोखिम होगा।

लेकिन गलवान की घटना के बाद जिसमें 20 भारतीय सैनिक मारे गए थे और चीन ने भी अपने कम से कम चार सैनिक मारे जाने की बात कही है, चीनी स्क्रिप्ट उम्मीद के मुताबिक़ नहीं रही और बल्कि ऐसा भी लग सकता है कि चीन को तनातनी से ज़्यादा कुछ हासिल नहीं हुआ, क्योंकि भारतीय सेना अपनी ज़मीन पर बनी रही।
 
 
 
 
 
 
 
 
 

खास खबरें

 
नाइजीरिया में एक स्थानीय अधिकारी का कहना है कि पिछले हफ़्ते उत्तर-पश्चिमी नाइजीरिया में स्थित एक स्कूल की जिन क़रीब 300 लड़कियों को अग़वा किया गया था, उन्हें रिहा कर दिया गया ...
भारत के ऊर्जा प्रतिष्ठानों पर चीनी हैकरों के कथित हमले को लेकर महाराष्ट्र के गृह मंत्री अनिल देशमुख ने कहा है कि साइबर हमले केवल मुंबई तक सीमित नहीं हैं बल्कि इसका दायरा देश भर में फैला ...
 

खेल

 
कोरोना वायरस संक्रमण के सात मामले सामने आने के बाद पाकिस्तान प्रीमियर लीग ट्वेन्टी-ट्वेन्टी क्रिकेट चैंपियनशिप को रद्द कर दिया गया है। पाकिस्तान प्रीमियर लीग ट्वेन्टी-ट्वेन्टी चैंपियनशिप को रद्द करने के ...
 

देश

 
भारत में दिल्ली की सीमाओं पर नवंबर 2020 से डटे हुए किसानों ने कड़कड़ाती ठण्ड झेलने के बाद अब गर्मियों की तैयारियाँ शुरू कर दी हैं। ये किसान केंद्र की मोदी सरकार द्वारा लाये गये तीन नये कृषि ...
 
भारत में रविवार, 28 फ़रवरी 2021 को दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने उत्तर प्रदेश के मेरठ में किसान महापंचायत को संबोधित किया। उन्होंने केंद्र की बीजेपी सरकार पर किसानों की पीठ में छुरा घोंपने का ...