• Name
  • Email
शनिवार, 6 मार्च 2021
 
 

पेट्रोल-डीज़ल पर टैक्स से साढ़े छह सालों में मोदी सरकार ने कमाए 21 लाख करोड़: सोनिया गांधी

सोमवार, 22 फ़रवरी, 2021  आई बी टी एन खबर ब्यूरो
 
 
भारत में विपक्षी पार्टी इंडियन नेशनल कांग्रेस की अध्यक्ष सोनिया गांधी ने पेट्रोल और डीज़ल की बढ़ती क़ीमतों पर केंद्र में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व वाली बीजेपी सरकार को घेरा है। सोनिया गांधी ने कहा है कि पेट्रोल और डीज़ल पर अधिक एक्साइज़ ड्यूटी लगा कर बीते साढ़े छह सालों में मोदी सरकार ने 21 लाख करोड़ रुपये कमाए हैं।

रविवार, 21 फ़रवरी 2021 को सोनिया गांधी ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नाम एक खत लिखा है जिसे कांग्रेस के आधिकारिक ट्विटर हैंडल पर पोस्ट किया गया है। इसमें सोनिया गांधी ने लिखा है, ''बीते साढ़े छह सालों में सरकार ने डीज़ल पर एक्साइज़ ड्यूटी 820 फ़ीसद और पेट्रोल पर एक्साइज़ ड्यूटी 258 फ़ीसद बढ़ाई है।''

सोनिया गांधी ने लिखा कि ''ऐसा करके सरकार ने लोगों से 21 लाख करोड़ रुपये कमाए हैं, ये पैसा उन लोगों तक पहुंचना चाहिए जिनके लिए ये इकट्ठा किया गया है।''

सोनिया गांधी ने लिखा, ''देश में बड़े पैमाने पर नैकरियां ख़त्म हुई हैं और लोगों की आय कम हुई है। देश का मध्य वर्ग आज परेशानी से जूझ रहा है। देश में महंगाई बढ़ी है और ज़रूरी सामान की कीमतें भी बढ़ गई हैं जिससे लोगों की परेशानियां और बढ़ गई हैं। लेकिन इस तरह के मुश्किल हालातों में भी सरकार लोगों की मुसीबतों और परेशानियों से फायदा उठाना नहीं छोड़ रही।''

सोनिया गांधी ने लिखा, ''मुझे नहीं समझ आ रहा कि आम लोगों की क़ीमत पर सरकार इस तरह के असंवेदनशील कदम कैसे उठा सकती है।''

सोनिया गांधी ने लिखा, ''देश के भीतर डीज़ल और पेट्रोल की क़ीमतें ऐतिहासिक रूप से बढ़ गई हैं लेकिन अंतरराष्ट्रीय बाज़ार में कच्चे तेल की क़ीमतें अभी उतनी नहीं बढ़ी हैं। अगर कहा जाए तो यूपीए सरकार के कार्यकाल में अंतरराष्ट्रीय बाज़ार में कच्चे तेल की जितनी क़ीमत थी अभी उससे आधी है।''

सोनिया गांधी ने लिखा, ''लेकिन आपकी (मोदी) सरकार ने फायदा कमाने के लिए फरवरी 2021 में लगातार 12 दिनों तक तेल की कीमतें बढ़ाईं। साल 2020 में जब अंतरराष्ट्रीय बाज़ार में कच्चे तेल की क़ीमतें 20 डॉलर प्रति बैरल तक पहुंच गई तब भी सरकार ने तेल की क़ीमतें कम नहीं करने का फ़ैसला किया।''

सोनिया गांधी ने लिखा, ''दुख की बात है कि बीते सात साल (2014) से आपकी (मोदी) सरकार सत्ता में है लेकिन फिर भी आप अर्थव्यवस्था के कुप्रबंधन के लिए पिछली सरकारों को ज़िम्मेदार ठहराते हैं। सच ये है कि साल 2020 में घरेलू स्तर पर कच्चे तेल के उत्पादन 18 साल के अपने सबसे निचले स्तर पर था।''
 
 
 
 
 
 
 
 
 

खास खबरें

 
नाइजीरिया में एक स्थानीय अधिकारी का कहना है कि पिछले हफ़्ते उत्तर-पश्चिमी नाइजीरिया में स्थित एक स्कूल की जिन क़रीब 300 लड़कियों को अग़वा किया गया था, उन्हें रिहा कर दिया गया ...
भारत के ऊर्जा प्रतिष्ठानों पर चीनी हैकरों के कथित हमले को लेकर महाराष्ट्र के गृह मंत्री अनिल देशमुख ने कहा है कि साइबर हमले केवल मुंबई तक सीमित नहीं हैं बल्कि इसका दायरा देश भर में फैला ...
 

खेल

 
कोरोना वायरस संक्रमण के सात मामले सामने आने के बाद पाकिस्तान प्रीमियर लीग ट्वेन्टी-ट्वेन्टी क्रिकेट चैंपियनशिप को रद्द कर दिया गया है। पाकिस्तान प्रीमियर लीग ट्वेन्टी-ट्वेन्टी चैंपियनशिप को रद्द करने के ...
 

देश

 
भारत में दिल्ली की सीमाओं पर नवंबर 2020 से डटे हुए किसानों ने कड़कड़ाती ठण्ड झेलने के बाद अब गर्मियों की तैयारियाँ शुरू कर दी हैं। ये किसान केंद्र की मोदी सरकार द्वारा लाये गये तीन नये कृषि ...
 
भारत में रविवार, 28 फ़रवरी 2021 को दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने उत्तर प्रदेश के मेरठ में किसान महापंचायत को संबोधित किया। उन्होंने केंद्र की बीजेपी सरकार पर किसानों की पीठ में छुरा घोंपने का ...