• Name
  • Email
शनिवार, 6 मार्च 2021
 
 

विश्व के सबसे बड़े रक्षा आयातकों में शामिल होना गौरव की बात नहीं है: मोदी

सोमवार, 22 फ़रवरी, 2021  आई बी टी एन खबर ब्यूरो
 
 
भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सोमवार, 22 फरवरी 2021 को रक्षा मंत्रालय के एक वेबिनार में रक्षा क्षेत्र में आत्मनिर्भरता लाने पर बात की।

उन्होंने कहा, ''भारत के पास हथियार और सैन्य उपकरण बनाने का सदियों पुराना अनुभव है। आज़ादी के पहले हमारे यहां सैकड़ों ऑर्डिनेंस फैक्ट्रियां होती थीं। दोनों विश्व युद्धों में भारत से बड़े पैमाने पर ​हथियार बनाकर भेजे गए थे। लेकिन आज़ादी के बाद अनेक वजहों से इस व्यवस्था को उतना मजबूत नहीं किया गया जितना किया जाना चाहिए था।

हालत ये है कि छोटे हथियारों के लिए भी हमें दूसरे देशों की तरफ देखना पड़ता है। आज भारत विश्व के सबसे बड़े डिफेंस आयातकों में शामिल है। ये कोई गौरव की बात नहीं है। ऐसा नहीं है कि भारत के लोगों में टैलेंट नहीं है। ऐसा नहीं है कि भारत के लोगों में सामर्थ्य नहीं है। आप देखिए कि जब कोरोना शुरू हुआ था तब भारत एक भी वेंटिलेटर नहीं बनाता था। आज भारत हज़ारों वेंटिलेटर का निर्माण कर रहा है।''

प्रधानमंत्री मोदी ने कहा है कि भारत डिफेंस सेक्टर में आयात को कम करने की दिशा में तेजी से काम कर रहा है।

उन्होंने कहा, ''मंगल तक पहुंचने की क्षमता रखने वाला भारत आधुनिक हथियार भी बना सकता था लेकिन बाहर से हथियार मंगाना बहुत आसान हो गया था। और मनुष्य का स्वभाव भी ऐसा ही है कि जो आसान रास्ता है, उसी पर चल पड़ो। आप भी आज अपने घर जाकर गिनेंगे तो पाएंगे कि जाने - अंजाने ऐसी कितनी ही विदेशी चीजों का आप वर्षों से इस्तेमाल कर रहे हैं। डिफेंस सेक्टर के साथ भी ऐसा ही हुआ है।

लेकिन आज का भारत इस स्थिति को बदलने के लिए कमर कसकर काम कर रहा है। अब भारत अपनी क्षमताओं को तेज गति से बढ़ाने में जुटा है। एक समय था जब हमारे अपने लड़ाकू विमान तेजस को फाइलों में बंद करने की नौबत आ गई थी।

लेकिन हमारी सरकार ने अपने इंजीनियरों, वैज्ञानिकों और तेजस की क्षमता पर भरोसा किया और आज तेजस शान से आसमान में उड़ान भर रहा है। कुछ हफ़्ते पहले ही तेजस के लिए 48 हज़ार करोड़ रुपये का ऑर्डर दिया गया है। इसके साथ जब एमएसएमई सेक्टर जुड़ेंगे तो कितना बड़ा कारोबार होगा।

हमारे जवानों को बुलेटप्रूफ जैकेट्स के लिए भी लंबा इंतज़ार करना पड़ता था। आज हम न सिर्फ अपने लिए बुलेट प्रूफ जैकेट बना रहे हैं, बल्कि दूसरे देशों को निर्यात करने के लिए भी अपनी क्षमताओं को बढ़ा रहे हैं।

इस साल के बजट में सेना के आधुनिकरण की प्रतिबद्धता और मजबूत हुई है। क़रीब डेढ़ दशक बाद डिफेंस सेक्टर में कैपिटल आउटले में 19 फीसदी की बढ़ोतरी की गई है। आज़ादी के बाद डिफेंस सेक्टर में निजी क्षेत्र की भागीदारी बढ़ाने पर इतना जोर दिया जा रहा है। निजी क्षेत्र को आगे लाने, काम करना आसान बनाने के लिए सरकार उनके ईज़ ऑफ़ डूइंग बिज़नेस पर बल दे रही है।''
 
 
 
 
 
 
 
 
 

खास खबरें

 
नाइजीरिया में एक स्थानीय अधिकारी का कहना है कि पिछले हफ़्ते उत्तर-पश्चिमी नाइजीरिया में स्थित एक स्कूल की जिन क़रीब 300 लड़कियों को अग़वा किया गया था, उन्हें रिहा कर दिया गया ...
भारत के ऊर्जा प्रतिष्ठानों पर चीनी हैकरों के कथित हमले को लेकर महाराष्ट्र के गृह मंत्री अनिल देशमुख ने कहा है कि साइबर हमले केवल मुंबई तक सीमित नहीं हैं बल्कि इसका दायरा देश भर में फैला ...
 

खेल

 
कोरोना वायरस संक्रमण के सात मामले सामने आने के बाद पाकिस्तान प्रीमियर लीग ट्वेन्टी-ट्वेन्टी क्रिकेट चैंपियनशिप को रद्द कर दिया गया है। पाकिस्तान प्रीमियर लीग ट्वेन्टी-ट्वेन्टी चैंपियनशिप को रद्द करने के ...
 

देश

 
भारत में दिल्ली की सीमाओं पर नवंबर 2020 से डटे हुए किसानों ने कड़कड़ाती ठण्ड झेलने के बाद अब गर्मियों की तैयारियाँ शुरू कर दी हैं। ये किसान केंद्र की मोदी सरकार द्वारा लाये गये तीन नये कृषि ...
 
भारत में रविवार, 28 फ़रवरी 2021 को दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने उत्तर प्रदेश के मेरठ में किसान महापंचायत को संबोधित किया। उन्होंने केंद्र की बीजेपी सरकार पर किसानों की पीठ में छुरा घोंपने का ...