• Name
  • Email
बुधवार, 21 अप्रैल 2021
 
 

कोरोना वैक्सीन: ब्रिटेन में एस्ट्राज़ेनेका वैक्सीन 30 साल से कम उम्र के लोगों को नहीं दी जाएगी

बुधवार, 7 अप्रैल, 2021  आई बी टी एन खबर ब्यूरो
 
 
ब्रिटेन में दवाओं की नियामक संस्था एमएचआरए ने कहा है कि 30 साल से कम उम्र के लोगों को एस्ट्राज़ेनेका वैक्सीन नहीं दी जाएगी और उन्हें इसका कोई दूसरा विकल्प दिया जाएगा।

नियामक संस्था का कहना है कि एस्ट्राज़ेनेका वैक्सीन लेने के बाद ब्लड क्लॉटिंग (ख़ून का थक्का जमना) की शिकायत मिलने के बाद ऐसा किया गया है।

नियामक संस्था ने अपनी जाँच में पाया है कि मार्च 2021 के आख़िर तक यूके में जिन लोगों को भी एस्ट्राज़ेनेका वैक्सीन दी गई थी उनमें से 79 लोग ब्लड क्लॉटिंग के शिकार हुए थे और उनमें से 19 लोगों की मौत हो गई है।

हालांकि एमएचआरए ने कहा कि इस बात के कोई पुख़्ता सबूत नहीं हैं कि कोरोना की एस्ट्राज़ेनेका वैक्सीन के कारण ही ब्लड क्लॉटिंग हुई है लेकिन ये भी सच है कि ब्लड क्लॉटिंग और वैक्सीन के बीच संबंध और गहरे होते जा रहे हैं।

ब्लड क्लॉटिंग के मामले जिन लोगों में देखे गए हैं, उनमें तकरीबन दो तिहाई महिलाएं हैं। मरने वाले लोगों की उम्र 18 साल से 79 साल के बीच थी।

एमएचआरए की सिफ़ारिश

ब्रिटेन में एस्ट्राज़ेनेका वैक्सीन की अब तक दो करोड़ ख़ुराक दिए जा चुके हैं।

इससे पहले यूरोपीय संघ में दवाओं का नियमन करने वाली एजेंसी ने कहा था कि ख़ून के थक्के बनने की घटना को एस्ट्राज़ेनेका वैक्सीन इक्का-दुक्का मामलों में होने वाले साइड इफ़ेक्ट के रूप में देखा जाना चाहिए।

एमएचआरए की डॉक्टर जूनी रैनी ने कहा कि इस वैक्सीन के साइड इफ़ेक्ट बहुत दुर्लभ हैं। और इस बारे में और खोज हो रही है कि क्या इस वैक्सीन से ख़ून के थक्के जमते हैं।

हालांकि उन्होंने कहा कि ज्यादातर लोगों के लिए इस वैक्सीन के नुक़सान से ज्यादा फ़ायदे हैं। लेकिन उनकी राय में युवाओं के लिए यह ज्यादा फ़ायदेमंद है।

नियामक संस्था ने कहा कि ऑक्सफ़ोर्ड-एस्ट्राज़ेनेका वैक्सीन के साइड इफ़ेक्ट बहुत ही दुर्लभ हैं और वैक्सीन के प्रभावी होने में कोई कमी नहीं है।

एमएचआरए ने कहा कि ज़्यादातर लोगों के लिए इस वैक्सीन को लेने के फ़ायदे अभी भी बहुत ज़्यादा हैं।

उन्होंने यह भी कहा कि जिन लोगों ने भी इसका पहला डोज़ लिया है उन्हें इसका दूसरा डोज़ भी लेना चाहिए, लेकिन जो लोग ख़ून के थक्का जमने के शिकार हुए हैं उन्हें इसकी दूसरी ख़ुराक नहीं लेनी चाहिए।

नियामक संस्था की इस रिपोर्ट के बाद सरकार की सलाहकार संस्था जेसीवीआई ने सिफ़ारिश की है कि 18 से 29 साल की उम्र के लोगों को एस्ट्राज़ेनेका के बजाए कोई और वैक्सीन दी जाए।

ब्रितानी सरकार को वैक्सीन पर सलाह देने वाली संस्था जेसीवीआई के प्रोफ़ेसर लिम वेई शेन का कहना है कि ये कदम किसी गहन चिंता की वजह से नहीं बल्कि एहतियात के तौर पर उठाया गया है।
 
 
 
 
 
 
 
 
 

खास खबरें

 
झारखण्ड की राजधानी राँची और पूर्वी सिंहभूम ज़िलों से हाल में लिये गए सैंपलों में से कम से कम 33 प्रतिशत सैंपलों में सीओवीआईडी के यूके स्ट्रेन और डबल म्यूटेंट वाले वायरस की पुष्टि हुई ...
एक सप्ताह पहले तक भारत, कुल मामलों के लिहाज़ से अमेरिका और ब्राज़ील के बाद तीसरे स्थान पर था। लेकिन पिछले एक सप्ताह में भारत में बहुत तेज़ी से संक्रमण बढ़ा है। कोरोना के कुल मामलों के लिहाज़ से ...
 

खेल

 
एकदिवसीय क्रिकेट की दुनिया के शीर्ष क्रम के बल्लेबाज़ों की आईसीसी रैंकिंग में लंबे समय से टॉप पर रहे विराट कोहली का ताज बुधवार, 14 अप्रैल, 2021 को उस वक्त छिन गया जब पाकिस्तान क्रिकेट टीम ...
 

देश

 
भारत के राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग (एनएचआरसी) ने देश के कई राज्यों में चल रही चुनावी प्रक्रियाओं में सीओवीआईडी दिशानिर्देश के कथित उल्लंघनों पर भारत के मुख्य चुनाव आयुक्त और भारत के ...
 
भारत में कांग्रेस पार्टी के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी लगातार केंद्र की बीजेपी सरकार पर हमला बोल रहे हैं। उन्होंने शायरी के अंदाज़ में ट्वीट किया, ''ना कोरोना पर क़ाबू, ना पर्याप्त वैक्सीन, ना रोज़गार ...