• Name
  • Email
बुधवार, 29 सितम्बर 2021
 
 

करनाल: विरोध प्रदर्शन कर रहे किसानों पर पुलिस ने लाठीचार्ज किया

शनिवार, 28 अगस्त, 2021  आई बी टी एन खबर ब्यूरो
 
 
भारत के राज्य हरियाणा के करनाल में हरियाणा पुलिस ने किसानों पर लाठीचार्ज किया है। यह लाठीचार्ज बसताड़ा टोल प्लाजा पर प्रदर्शन कर रहे किसानों पर हुआ है।

करनाल में बीबीसी पंजाबी की सहयोगी पत्रकार कमल सैनी के मुताबिक़ इस लाठीचार्ज में किसानों को गंभीर चोटें आईं और उन्हें इलाज के लिए अस्पताल ले जाया गया।

समाचार एजेंसी एएनआई ने इसका एक वीडियो पोस्ट किया है जिसमें देखा जा सकता है कि पुलिसकर्मी टोल नाके पर किसानों को तितर-बितर करने की कोशिश कर रहे हैं।

हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर आगामी पंचायत चुनावों के लिए करनाल में विधायकों और मंत्रियों के साथ बैठक कर रहे थे। इसी बैठक का विरोध करने के लिए किसान करनाल के बसताड़ा टोल प्लाजा पर एकत्र हुए थे।

पुलिस ने पहले किसानों को प्रदर्शन से हटने की चेतावनी दी और फिर उन पर लाठीचार्ज किया।

समाचार एजेंसी पीटीआई के अनुसार करनाल में हुए पुलिस के लाठीचार्ज में क़रीब 10 किसान घायल हुए हैं। लाठीचार्ज में कुछ वाहनों के शीशे भी टूटने की ख़बर है।

इस कार्रवाई का आदेश देते हुए करनाल के एसडीएम आयुष सिन्हा का एक वीडियो वायरल हो रहा है।

इस वीडियो में वे कहते हुए दिखाई दे रहे हैं, ''करना है या नहीं करना है, तो बात ये है कि करना है। ये नाका नहीं टूटना चाहिए, हर हाल में। ये क्लियर है।'' इसके जवाब में पुलिस के जवानों के यस सर की आवाज़ आती है।

फिर आयुष सिन्हा कहते हैं, ''एक्शन करोगे।'' फिर यस सर की आवाज़ सुनाई देती है। इसके बाद आयुष सिन्हा कहते हैं, ''पक्का''। इसके बाद यस सर की आवाज़ आने पर सिन्हा कहते हैं, ''ठीक है, लाइन अप कर लो और करा दो।''

इस वीडियो को लेकर बाद में एसडीएम आयुष सिन्हा ने समाचार एजेंसी एएनआई को बताया कि ''कुछ जगहों पर पत्थरबाज़ी शुरू हो गई थी ... पुलिसकर्मियों को ब्रीफ़िंग के दौरान सोच समझ कर ताकत इस्तेमाल करने को कहा गया था।''

भारत में केंद्र की मोदी सरकार द्वारा लाए गए तीन कृषि क़ानूनों के ख़िलाफ़ किसान पिछले कई महीनों से धरना प्रदर्शन कर रहे हैं। किसान इन तीन कृषि कानूनों को निरस्त करने की मांग कर रहे हैं।

किसान संगठनों और मोदी सरकार के बीच कई दौर की बैठक हो चुकी है लेकिन अभी तक कोई फ़ैसला नहीं हुआ है।

मोदी सरकार का कहना है कि वह कृषि कानूनों को निरस्त नहीं करेगी लेकिन उसमें संशोधन के लिए तैयार है। वहीं किसानों का कहना है कि सरकार जब तक उनकी मांगें नहीं मानेगी वो पीछे नहीं हटेंगे।

एक प्रेस कॉन्फ्रेंस में संयुक्त किसान मोर्चा ने कहा है कि सरकार जानबूझ कर किसानों के आंदोलन को ख़त्म करना चाहती है। किसान नेताओं ने हरियाणा सरकार की आलोचना की और कहा कि सरकार चाहती है कि किसान 5 सितंबर 2021 को मुज़फ्फरनगर में होने वाली महापंचायत तक न पहुंच सकें।

किसान नेता गुरनाम सिंह ने कहा, ''करनाल में प्रशासन की ओर से लाठीचार्ज किया गया है। हम इसकी निंदा करते हैं। किसान शांतिपूर्ण तरीके से धरना दे रहे थे लेकिन प्रशासन ने उनके ख़िलाफ़ बल प्रयोग किया है।''

किसानों पर लाठीचार्ज के बाद किसानों ने कुरुक्षेत्र में दिल्ली-अमृतसर हाइवे को जाम कर दिया है। किसानों का कहना है कि संयुक्त किसान मोर्चा से निर्देश मिलने तक वे जाम नहीं खोलेंगे।

बीबीसी संवाददाता अरविंद छाबड़ा के मुताबिक, लाठीचार्ज के विरोध में किसानों ने दिल्ली-शिमला राष्ट्रीय राजमार्ग को बंद कर दिया। लेकिन बाद में हिरासत में लिए गए किसानों को छोड़े जाने के बाद देर शाम टोस प्लाज़ा को खोल दिया गया।

कांग्रेस ने इस घटना की आलोचना की है और कहा है कि किसानों के साथ सरकार जनरल डायर जैसा व्यवहार कर रही है।

कांग्रेस प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने कहा कि सरकार ने ''करनाल में अन्नदाताओं पर लाठीचार्ज करवा के जनरल डायर जैसी बरर्बता का लाइव प्रसारण करवा दिया।''
 
 
 
 
 
 
 
 
 

खास खबरें

 
भारत के राज्यों पंजाब और हरियाणा की संयुक्त राजधानी चंडीगढ़ के राजभवन में सोमवार, 20 सितम्बर 2021 को कांग्रेस नेता चरणजीत सिंह चन्नी ने पंजाब के मुख्यमंत्री पद की शपथ ली ...
संयुक्त राष्ट्र के महासचिव ने एक नए शीत युद्ध की चेतावनी देते हुए कहा है कि चीन और अमेरिका को 'पूरी तरह से अस्त-व्यस्त' हुए अपने संबंधों को सुधारना चाहिए। समाचार एजेंसी एपी को ...
 

खेल

 

देश

 
भारत में केंद्र सरकार ने रक्षा मंत्रालय के हवाले से सुप्रीम कोर्ट में बताया है कि महिलाओं को नेशनल डिफ़ेंस एकेडमी (एनडीए) में दाख़िला लेने के लिए ज़रूरी सभी इंतज़ाम मई 2022 तक पूरे ...
 
भारत में महाराष्ट्र सरकार द्वारा राज्य में अन्य पिछड़ा वर्ग के लोगों की जनगणना कराए जाने को लेकर सुप्रीम कोर्ट में दायर की गई याचिका पर भारत की केंद्र सरकार ने सुप्रीम कोर्ट से कहा है कि ...