• Name
  • Email
सोमवार, 25 अक्टूबर 2021
 
 

नोबेल पुरस्कार: जलवायु परिवर्तन को समझने में मदद करने वाले वैज्ञानिकों को फ़िज़िक्स का नोबेल पुरस्कार

मंगलवार, 5 अक्टूबर, 2021  आई बी टी एन खबर ब्यूरो
 
 
वर्ष 2021 में जलवायु विज्ञान और ग्लोबल वॉर्मिंग की जटिलता को समझाने में किए गए काम के लिए तीन वैज्ञानिकों को भौतिकी का नोबेल पुरस्कार दिए जाने की घोषणा की गई है।

नॉर्वे की राजधानी स्टॉकहोम में पुरस्कार समिति ने एक समारोह में स्युकुरो मनाबे, क्लॉस हैसलमैन और जॉर्जियो पारिसी के नोबेल जीतने की घोषणा की।

मनाबे और हैसलमैन के काम की वजह से धरती के जलवायु के ऐसे कंप्यूटर मॉडल बने, जिनसे ग्लोबल वॉर्मिंग के प्रभाव की भविष्यवाणी संभव हो सकी।

विजताओं को पुरस्कार में एक करोड़ क्रोनर यानी लगभग पौने नौ करोड़ रुपए मिलेंगे।

जलवायु विज्ञान में जटिल भौतिक चीज़ों के दीर्घकालीन व्यवहार का अनुमान लगा पाना बहुत ही मुश्किल काम होता है, जैसे पृथ्वी के जलवायु के बारे में पता लगाना।

लेकिन कंप्यूटरों पर तैयार मॉडलों से ये अनुमान लगाया जा सकता है कि पृथ्वी पर धरती के वायुमंडल को गर्म करने वाली ग्रीनहाउस गैसों के उत्सर्जन का क्या असर पड़ता है।

और इन मॉडलों से लगाए जाने वाले अनुमानों से जलवायु परिवर्तन को लेकर हमारी समझ बेहतर हुई है।

जलवायु परिवर्तन पर अहम योगदान

90 वर्षीय स्युकुरो मनाबे ने बताया कि कैसे वायुमंडल में कार्बन डाइऑक्साइड का स्तर बढ़ने से पृथ्वी की सतह का तापमान बढ़ सकता है।

उन्होंने 1960 के दशक में इस मॉडल को बनाने के प्रयास का नेतृत्व किया था।

इसके लगभग एक दशक बाद, 89 वर्षीय क्लॉस हेसलमैन ने एक कंप्यूटर मॉडल बनाया, जिसने मौसम और जलवायु के बीच संपर्क स्थापित किया।

उनके काम से पता चला कि क्यों जलवायु के मॉडलों पर भरोसा किया जा सकता है जबकि मौसम कभी भी बदलते रहते हैं और उनमें बहुत उतार-चढ़ाव हो सकता है।

नोबेल पुरस्कार समिति ने कहा कि जॉर्जियो पारिसी की खोजों से ''बहुत सारे और एकदम अलग सामग्रियों और घटनाओं को समझना और उनकी व्याख्या करना संभव हो सका''।

इनमें माइक्रोस्कोपिक स्तर यानी बहुत ही सूक्ष्म स्तर पर जटिल बदलावों और उनके व्यवहार को समझना शामिल है।

उनके काम का इस्तेमाल केवल फ़िज़िक्स में ही नहीं, बल्कि अन्य विषयों जैसे गणित, जीव विज्ञान, न्यूरोसाइंस (मस्तिष्क विज्ञान) और मशीन लर्निंग में भी होता है जो आर्टिफ़िशियल इंटेलिजेंस का एक क्षेत्र है।

'बहुत तेज़ी से काम करने की ज़रूरत'

धरती के गर्म होने को समझने के काम में योगदान के लिए नोबेल पुरस्कार का एलान ऐसे समय किया गया है, जब नवंबर 2021 में संयुक्त राष्ट्र की जलवायु परिवर्तन पर बैठक होने वाली है।

प्रोफ़ेसर परिसी कहते हैं, ''हमें इस बारे में बहुत तेज़ी से काम करने की ज़रूरत है और देरी बिल्कुल नहीं होनी चाहिए।''

नोबेल पुरस्कार की स्थापना स्वीडेन के उद्योगपति अल्फ़्रेड नोबेल ने की थी, जिन्होंने 1896 में अपनी मृत्यु से एक वर्ष पहले अपनी वसीयत में इसकी व्यवस्था की थी।

फ़िज़िक्स के लिए 1901 से नोबेल पुरस्कार दिया जा रहा है और अब तक 218 लोगों को ये पुरस्कार दिया जा चुका है।

इनमें से केवल चार नोबेल विजेताएँ महिला हैं। वहीं वैज्ञानिक जॉन बार्डीन ने ये पुरस्कार दो बार - 1956 और 1972 - में जीता।
 
 
 
 
 
 
 
 
 

खास खबरें

 
भारत के दक्षिणी राज्य केरल में लगातार बारिश और बाढ़ की वजह से अब तक कम से कम 26 लोगों की मौत हो गई है और दर्जनों लोग लापता हैं। मृतकों में पाँच बच्चे भी शामिल है। आशंका है कि ...
भारत के जम्मू संभाग में नियंत्रण रेखा से सटे पुंछ ज़िले के घने जंगलों में छिपे आतंकवादियों ने गुरुवार, 14 अक्टूबर 2021 की देर शाम भारतीय सेना की टुकड़ी पर एक दफा फिर घात लगा ...
 

खेल

 
भारत और पाकिस्तान के बीच 24 अक्टूबर 2021 को टी-20 विश्व कप का मुक़ाबला होने जा रहा है। दोनों ही टीमों के लिए यह इस विश्व कप का पहला मैच है। भारत और पाकिस्तान दोनों टी-20 विश्व ...
 
टी-20 वर्ल्ड कप 2021 में भारतीय क्रिकेट टीम सुपर 12 के ग्रुप-2 में रविवार, 24 अक्टूबर 2021 को पाकिस्तान के खिलाफ सात विकेट पर केवल 151 रन ही बना सकी और भारतीय टीम को 10 विकेट ...
 

देश

 
भारत के जम्मू संभाग में नियंत्रण रेखा से सटे पुंछ ज़िले के घने जंगलों में छिपे आतंकवादियों ने गुरुवार, 14 अक्टूबर 2021 की देर शाम भारतीय सेना की टुकड़ी पर एक दफा फिर घात लगा ...
 
भारत में शिवसेना नेता और सांसद संजय राउत ने रविवार, 17 अक्टूबर 2021 को बीजेपी और केंद्र सरकार पर केंद्रीय जांच एजेंसियों के दुरुपयोग का आरोप लगाया है। उन्होंने आरोप लगाया ...