• Name
  • Email
सोमवार, 6 दिसम्बर 2021
 
 

तालिबान के गृह मंत्री की मध्यस्थता में पाकिस्तान और टीटीपी के बीच शांति वार्ता: रिपोर्ट

शनिवार, 6 नवम्बर, 2021  आई बी टी एन खबर ब्यूरो
 
 
खबरों के मुताबिक तालिबान के गृह मंत्री सिराजुद्दीन हक़्क़ानी की 'मध्यस्थता' के तहत अफ़ग़ानिस्तान के खोस्त प्रांत में पाकिस्तान और तहरीक-ए-तालिबान पाकिस्तान (टीटीपी) के बीच दो हफ़्ते से बातचीत चल रही है।

टीटीपी के साथ पहले दौर की शांति वार्ता की घोषणा करते हुए पाकिस्तानी सरकार के सूत्रों ने कहा कि एक प्रतिनिधिमंडल पाकिस्तानी तालिबान नेताओं के साथ बातचीत के लिए अफ़ग़ानिस्तान गया था।

अफ़ग़ानिस्तान में तालिबान के सत्ता में आने के बाद से टीटीपी का भविष्य इस्लामाबाद में एक बड़ा मुद्दा बन गया है। सिराजुद्दीन हक़्क़ानी तालिबान के गृह मंत्री और हक़्क़ानी नेटवर्क के कमांडर हैं।

हक़्क़ानी नेटवर्क का मुख्यालय पूर्वी अफ़ग़ानिस्तान और पाकिस्तान के कबायली इलाकों में है। सिराजुद्दीन हक़्क़ानी का नाम अमेरिका की 'मोस्ट वांटेड' लिस्ट में भी है। पाकिस्तानी सरकार और तहरीक-ए-तालिबान पाकिस्तान (टीटीपी) ने अभी तक औपचारिक रूप से वार्ता पर कोई टिप्पणी नहीं की है।

सूत्रों ने बीबीसी को बताया कि दोनों पक्षों के बीच दो हफ़्ते पहले संपर्क स्थापित हुआ था।

एक पाकिस्तानी अख़बार ने शुक्रवार, 5 नवंबर 2021 को बताया कि पाकिस्तानी अधिकारियों ने पिछले दो हफ़्तों में तालिबान के गृह मंत्री सिराजुद्दीन हक़्क़ानी की मध्यस्थता से टीटीपी के साथ बातचीत की थी।

रिपोर्ट में कहा गया है, ''पाकिस्तानी तालिबान ने अपने कैदियों की रिहाई की मांग की है, जो विश्वास बहाली और संघर्ष विराम की दिशा में एक कदम हो सकता है।''

समाचार एजेंसी रॉयटर्स को भी विभिन्न स्रोतों से इस शांति वार्ता की रिपोर्ट मिली है। लेकिन अफ़ग़ान तालिबान के प्रवक्ता ने अभी तक इस मामले पर कोई टिप्पणी नहीं की है।

तहरीक-ए-तालिबान पाकिस्तान (टीटीपी) ने भी अभी तक इस बातचीत पर कुछ नहीं कहा है, लेकिन एक टीटीपी कमांडर ने नाम न छापने की शर्त पर बीबीसी को बताया कि मार्च 2021 में पाकिस्तानी सरकार और उनके बीच संपर्क हुआ था।

इससे पहले, पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने एक इंटरव्यू में तुर्की की समाचार एजेंसी को बताया था कि तहरीक-ए-तालिबान पाकिस्तान (टीटीपी) के कुछ समूहों के साथ बातचीत चल रही है और अगर उन्होंने आत्मसमर्पण किया तो उन्हें माफ कर दिया जाएगा।

इमरान खान ने कहा था कि इस बातचीत को अफगान तालिबान का समर्थन हासिल है। यह ध्यान दिया जाना चाहिए कि टीटीपी मुख्य रूप से पाकिस्तान के कबायली इलाकों में सक्रिय है।

पाकिस्तान इंस्टीट्यूट फॉर पीस स्टडीज के अनुसार, टीटीपी ने साल 2020 में पाकिस्तान में 95 हमले किए, जिसमें कम से कम 140 लोग मारे गए और साल 2021 के पहले छह महीनों में टीटीपी के हमलों में 44 और लोग मारे गए हैं।
 
 
 
 
 
 
 
 
 

खास खबरें

 
बांग्लादेश की विपक्षी पार्टी शेख हसीना सरकार को निशाने पर ले रही है। बांग्लादेश के विदेश मंत्री डॉ एके अब्दुल मोमेन ने गुरुवार, 25 नवंबर 2021 को कहा था कि बांग्लादेश का लोकतंत्र ...
संयुक्त अरब अमीरात के एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा है कि तुर्की उनका स्वभाविक सहयोगी है क्योंकि दोनों देश समान दृष्टिकोण रखते हैं और कई रणनीतिक विषयों पर उनकी सहमति ...
 

खेल

 

देश

 
भारत के सुप्रीम कोर्ट के मुख्य न्यायाधीश एनवी रमन्ना ने शुक्रवार, 26 नवंबर 2021 को कहा है कि संविधान ने कार्यपालिका, न्यायपालिका और विधायिका के बीच शक्तियों के बंटवारे की ...