• Name
  • Email
सोमवार, 3 अक्टूबर 2022
 
 

आईसीसी ने क्रिकेट के नियमों में बड़े बदलाव किए

मंगलवार, 20 सितम्बर, 2022  आई बी टी एन खबर ब्यूरो
 
 
इंटरनेशनल क्रिकेट काउंसिल (आईसीसी) ने खेल के नियमों में कई बदलाव किए हैं। ये बदलाव सौरव गांगुली की अगुवाई वाली मेंस क्रिकेट कमिटी (एमसीसी) की सिफ़ारिशों के आधार पर चीफ़ एक्जीक्यूटिव कमिटी (सीईसी) ने भेजी थीं। एमसीसी की सिफ़ारिशों को विमेंस क्रिकेट कमिटी के साथ साझा किया गया था जिसने इन सुझावों पर सहमति जताई।

क्रिकेट खेलने की शर्तों में एक अक्टूबर 2022 से लागू होने वाले मुख्य बदलाव -

- कैच आउट होने पर आने वाला नया बल्लेबाज़

किसी भी खिलाड़ी के कैच आउट होने पर जो नया बल्लेबाज़ आएगा वही स्ट्राइक लेगा। भले ही इसके पहले दोनों बल्लेबाज़ रन दौड़कर छोर बदल चुके हों।

- गेंद चमकाने के लिए थूक का इस्तेमाल

गेंद को चमकाने के लिए थूक के इस्तेमाल पर बीते दो सालों से कोरोना महामारी की वजह से प्रतिबंध था, अब इसे स्थायी किया गया है।

-आने वाला बल्लेबाज़ बैटिंग के लिए तुरंत तैयार हो

टेस्ट और वनडे मैचों में बैटिंग के लिए आने वाले बल्लेबाज़ को दो मिनट के भीतर स्ट्राइक के लिए तैयार होना होगा। हालांकि टी20 मैचों के लिए डेढ़ मिनट का नियम बरकरार रहेगा।

- गेंद खेलने का स्ट्राइकर का अधिकार

बल्ले या व्यक्ति (बल्लेबाज़) के कुछ हिस्से का पिच के भीतर रहना ज़रूरी है।

अगर बल्लेबाज़ या बल्ला पिच से बाहर जाता है तो अंपायर उसे डेड बॉल घोषित करेगा। ऐसी गेंद जिसपर बल्बेबाज़ पिच के बाहर जाने को मजबूर हो, वो नो बॉल होगी।

- फ़ील्डिंग टीम की अनुचित गतिविधि

गेंदबाज़ जब गेंदबाज़ी के लिए दौड़ना शुरू करे तो उस समय किसी भी तरह से जानबूझकर या अनुचित व्यवहार करने पर अंपायर गेंद को डेडबॉल करार देकर बल्लेबाज़ी टीम को पांच रन दे सकते हैं।

- नॉन स्ट्राइकर को रन ऑउट करना

मौजूदा नियमों के तहत नॉन स्ट्राइकर को रन आउट तो किया जा सकता है पर इसे 'रन आउट फ़्रॉम अनफ़ेयर प्ले' कहा जाता है। अब इसे रन आउट कहा जा जाएगा।

- गेंद डालने से पहले गेंदबाज़ का स्ट्राइकर के छोर पर गेंद फेंकना

अबतक गेंद फेंकने से पहले, गेंदबाज़ स्ट्राइकर को क्रीज़ से बाहर निकलते देख, उसे रन आउट करने का प्रयास कर सकता था। अब इसे डेड बॉल क़रार दिया जाएगा।

- दूसरे बड़े बदलाव

मैच के दौरान पेनाल्टी का जो सिस्टम जनवरी 2022 में टी-20 में लागू किया गया था (जिसमें फ़ील्डिंग टीम निर्धारित समय में अपने ओवर नहीं डालती तो बाकी के बचे हुए ओवर में उन्हें एक अतिरिक्त फील्डर घेरे के अंदर रखना होता है), ये नियम 2023 में होने वाली आईसीसी मेंस क्रिकेट वर्ल्ड कप सुपर लीग के बाद वनडे मैचों में भी लागू होगा।

यह भी तय हुआ है कि सभी पुरुष और महिला टीमों के लिए वनडे और टी20 मैचों में खेलने की शर्तों में बदलाव किया जाएगा। ताकि अगर दोनों टीमें तैयार हों तो हाइब्रिड पिच का इस्तेमाल किया जाएगा।

फ़िलहाल हाइब्रिड पिच का इस्तेमाल सिर्फ़ महिला टी20 मैचों में ही हो सकता है।
 
 
 
 
 
 
 
 
 

खास खबरें

 
भारत में राष्ट्रीय अन्वेषण अभिकरण (NIA) और प्रवर्तन निदेशालय (ED) ने गुरुवार, 22 सितम्बर, 2022 की सुबह से ही पॉपुलर फ़्रंट ऑफ़ इंडिया के ठिकानों पर भारत के कई राज्यों में ...
एडवर्ड स्नोडेन को रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन ने अपने देश की नागरिकता देने का आदेश दिया ...
 

खेल

 
कीनिया के दो बार के ओलंपिक चैंपियन एलियुड किपचोगे ने बर्लिन में आयोजित पुरुषों की मैराथन दौड़ में अपना ही विश्व रिकाॅर्ड तोड़ दिया है। वे 2016 और 2020 ओलंपिक के मैराथन चैंपियन ...
 
हॉकी इंडिया के अध्यक्ष पद के लिए भारत के पूर्व कप्तान दिलीप तिर्की को निर्विरोध चुना गया है ...
 

देश

 
भारत में राष्ट्रीय अन्वेषण अभिकरण (NIA) और प्रवर्तन निदेशालय (ED) ने गुरुवार, 22 सितम्बर, 2022 की सुबह से ही पॉपुलर फ़्रंट ऑफ़ इंडिया के ठिकानों पर भारत के कई राज्यों में ...
 
विपक्ष को एकजुट करने के मक़सद से बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार और राजद अध्यक्ष लालू प्रसाद यादव ने रविवार, 25 सितम्बर 2022 को कांग्रेस की अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी से ...